खुशियों के रंग बड़ौदा कृषि गोल्ड लोन के संग
सोने की बढ़ी हुई कीमत के अनुकूल ज्यादा ऋण पाएं

Proud to serve over.

सोने के गहने/ आभूषणों के एवज में ऋण के लिए योजना

  • विशेषताएं
  • लाभ
  • नियम व शर्तें
  • ब्याज दर एवं प्रभार
  • शंका समाधान

फसल उत्पादन और संबद्ध गतिविधियों दोनों के लिए अल्पकालिक कृषि ऋण और निवेश आवश्यकताओं को पूरा करने हेतु बैंक ऑफ़ बड़ौदा किसानों को आकर्षक दरों पर रु. 25.00 लाख तक का स्वर्ण ऋण ऑफर करता है.

सुविधा का प्रकार

मांग ऋण/ ओवरड्राफ्ट एवं ईएमआई


उद्देश्य

सट्टेबाजी के अलावा किसी अन्य उद्देश्य के लिए

पात्रता
  • स्टाफ सदस्य सहित वैसे सभी व्यक्ति, जो बैंकों द्वारा बिक्री किये गये, विशेष रूप से बने स्वर्ण के सिक्कों एवं स्वर्ण आभूषणों / गहनों के वास्तविक स्वामी हैं (अधिकतम 50 ग्राम प्रति ऋणकर्ता तक).
  • आवेदक अनिवार्य रूप से भारतीय नागरिक होना चाहिये.

अधिकतम सीमा

रू. 25.00 लाख प्रति ऋणकर्ता


अवधि

12 माह एवं ईएमआई योजना के लिये अधिकतम 36 माह


चुकौती का माध्यम

ब्याज मासिक आधार पर. मूलधन की चुकौती ऋण की अवधि के दौरान किसी भी समय पर बुलेट भुगतान के माध्यम से की जाएगी.


ईएमआई

ईएमआई मासिक आधार पर होगा.

मांग ऋण - बीआरएलएलआर+एसपी+2.00%

ओवर ड्राफ्ट - बीआरएलएलआर+एसपी+2.15%

ईएमआई - बीआरएलएलआर+एसपी+2.00%

प्रोसेसिंग प्रभार

रु. 25,000 तक - शून्य

रू. 25,000 से अधिक एवं रू. 25.00 लाख तक - लागू प्रभार + जीएसटी

प्रतिभूति

न्यूनतम 18 कैरेट स्वर्ण आभूषणों / गहनों द्वारा सुरक्षित

समय-पूर्व बंद करना / समय-पूर्व-चुकौती

शून्य


बीआरएलएलआर में परिवर्तन के अधीन
रु. 3.00 लाख तक सीमा एक वर्ष एमसीएलआर + एसपी
रु. 3.00 लाख से अधिक एवं रु. 10.00 लाख तक सीमा एक वर्ष एमसीएलआर + एसपी + 0.25%
रु. 10.00 लाख से अधिक एवं रु. 25.00 लाख तक सीमा एक वर्ष एमसीएलआर + एसपी + 0.50%
बैंक ऑफ़ बड़ौदा के कृषि स्वर्ण ऋण योजना क्या है ?
  • जैसा कि नाम से प्रतीत होता है, यह ऋण स्वर्ण आभूषण/ गहने/ सिक्कों की प्रतिभूति के एवज में प्रदान किया जाता है. यह हमारे बैंक मुख्यत: कृषि, संबद्ध गतिविधियों व अन्य प्राथमिकता क्षेत्र ग्राहकों को प्रदान किया जाता है.
  • स्टाफ सदस्यों सहित वैसे सभी व्यक्ति जिनके पास स्वर्ण आभूषणों/ गहनें, विशेष रूप से ढाले गए सिक्कें हैं.
  • बैंक द्वारा बेचे गए विशेष रूप से ढाले गए सोने के सिक्कों का वजन प्रति ग्राहक 50 ग्राम से अध‍िक ना हो.
  • गिरवी रखे जाने वाले स्वर्ण आभूषण न्यूनतम 18 कैरेट शुद्धता के होने चाहिए.
  • आवेदक स्थानीय नागरिक होना चाहिए और शाखा में उसका बचत खाता होना अनिवार्य है.
  • तृतीय पक्ष को ऋण प्रदान नहीं किया जाएगा

ऋणकर्ता की आयु कितनी होनी चाहिए ?

न्यूनतम 18 वर्ष और अधिकतम - 70 वर्ष


ऋण सीमा का निर्धारण ?

प्रतिभूति के मूल्य अर्थात गिरवी सोना, समायोजित मार्जिन के आधार पर ऋण सीमा निकाली जाएगी.


तथापि, कृषि प्रयोजन के मामले में गिरवी रखे गए स्वर्ण आभूषणों/ गहनों के ऋण मूल्य के अलावा भी वित्त प्रदान करने पर विचार किया जाएगा. तथापि, ऋण सीमा लागू मार्जिन के साथ सोने के मूल्य की सीमा तक प्रतिबंधित की जाएगी.


ऋण राशि कितनी है ?
  • स्वर्ण ऋण के लिए प्रति उधारकर्ता अधिकतम ऋण राशि रु. 25 लाख है.
  • कोई न्यूनतम राशि निर्धारित नहीं की गई है.
  • बहुविध ऋण खातों की अनुमति है.

मार्जिन कितना है ?

बैंक द्वारा (समय-समय पर) मूल्य की तुलना में ऋण (एलटीवी) निर्धारित किया जाएगा


चुकौती अवधि और समय-पूर्व भुगतान प्रभार कितना है ?

अधिकतम 12 माह, कोई समय-पूर्व भुगतान प्रभार नहीं.


इस योजना के अंतर्गत क्या किसी भी शाखा से ऋण प्राप्त किया जा सकता है ?

जी नहीं, इस योजना के अंतर्गत ऋण की स्वीतकृति केवल विनिर्दिष्ट और निर्धारित शाखाओं द्वारा ही की जाएगी. प्रस्तावित उधारकर्ता के लिए पूर्व शर्त यह है कि उसका बचत बैंक खाता होना चाहिए.


वर्तमान में अखिल भारतीय स्तर पर 9500 + से अधिक शाखाएं स्वर्ण ऋण स्वीकृत कर रही है.

प्रोसेसिंग प्रभार
  • रु. 3.00 लाख तक – शून्य
  • रु. 3.00 लाख से अधिक – रु. 25.00 लाख तक – स्वीकृति सीमा का 0.25% + जीएसटी (अधिकतम रु. 3500 + जीएसटी)
अन्य लागू प्रभार
  • परख किए गए स्वर्ण आभूषणों के निवल मूल्य में प्रति रु. 100 पर @ 50 पैसे की दर से पारखी शुल्क, प्रति परख न्यूनतम रु. 25 और अधिकतम रु. 350, जिस उधारकर्ता द्वारा वहन किया जाएगा.

क्या सोने के सिक्कों को गिरवी रख कर ऋण प्रदान किया जाएगा ?

जी हां, बैंक द्वारा बेचे गए सोने के सिक्कों को गिरवी रखकर ऋण उपलब्ध किया जाएगा. स्वर्ण ऋण के लिए प्रति उधारकर्ता अधिकतम पात्र सीमा 50 ग्राम होगी.


क्या आंशिक भुगतान की अनुमति‍ है?

जी हां, बिना किसी प्रभार के आंशिक भुगतान की अनुमति है.


क्या गिरवी रखे गए आभूषणों के एक भाग को गिरवीमुक्त करने की अनुमति है?

जी नहीं

हमारे बैंक की कृषि स्वर्ण योजना के यूएसपी.
  • तत्काल स्वर्ण ऋण और त्वरित सेवा
  • न्यूनतम 18 कैरेट शुद्ध सोना
  • समय-पूर्व भुगतान/ समय-पूर्व चुकौती पर कोई प्रभार नहीं
  • कृषि उद्देश्य के लिए रु. 3 लाख तक कोई प्रोसेसिंग प्रभार नहीं.
  • आपके आभूषणों की आत्यधिक सुरक्षा.
  • अखिल भारतीय स्तर पर 9500+ से अधिक शाखाएं स्वर्ण ऋण संवितरण करती है.
Request Callback

Please fill in these details, so we can call you back and assist you.

Select Loans and Advances Type
  • ट्रैक्टर के लिए नई योजना
  • कृषि के अंतर्गत खाद्य और कृषि आधारित इकाइयों को अग्रिम
  • कृषि स्नातकों द्वारा एग्रीकलीनिक एवं एग्री बिजनेस केंद्रों की स्थापना
  • कृषि विकास गतिविधियों के वित्तपोषण हेतु योजना
  • बड़ौदा पशुपालन एवं मछली पालन किसान क्रेडिट कार्ड (बीएएचएफ़केसीसी) योजना
  • बड़ौदा किसान क्रेडिट कार्ड (बीकेसीसी)
  • बड़ौदा किसान तत्काल ऋण योजना
  • बड़ौदा स्वच्छता योजना
  • भंडारण संरचना परियोजनाओं का निर्माण
  • फसलों की खेती (वृक्षारोपण और बागवानी फसलों के अलावा)
  • वेयरहाउस रसीद के एवज में वित्तपोषण
  • किसानों को अनुकूल सेवाएं प्रदान करने वाली वित्तपोषण एजेंसियों को वित्तपोषण
  • कृषि भवनों एवं संरचनाओं के निर्माण हेतु वित्तपोषण
  • डेयरी, मुर्गीपालन, मत्स्य पालन आदि उद्योग के विकास हेतु वित्तपोषण
  • कृषि उत्पाद कंपनियों / संगठनों (एफपीसी / एफपीओ) को वित्तपोषण हेतु योजना
  • किसान को चार पहिया वाहन हेतु ऋण का वित्तपोषण
  • सिंचाई वित्तपोषण
  • संयुक्त देयता समूह को वित्तपोषण
  • संरक्षित कृषि परियोजनाओं (ग्रीन हाउस
  • कृषि ट्रैक्टर और भारी कृषि मशीनरी का वित्तपोषण
  • स्वयं सहायता समूह (एसएचजी) के अंतर्गत वित्तपोषण
  • गोबर गैस / बायो गैस प्‍लांट का इंन्‍टॉलेशन
  • सौर उर्जा गृह बिजली प्रणाली का इंस्टालेशन
  • सोने के गहने/ आभूषणों के एवज में ऋण के लिए योजना
  • सोलर फोटोवोल्टिक पंप सेट के इंस्टालेशन के लिए
  • खाद्य और कृषि प्रसंस्करण इकाईयों को कार्यशील पूंजी सहायता के लिए ओवरड्राफ्ट सुविधा
  • छोटी दुग्धालय इकाइयों के वित्तपोषण हेतु योजना
  • एनबीएफसी – एमएफआई को वित्तपोषण हेतु योजना
  • प्रधान मंत्री मत्स्य संपदा योजना (पीएमएमएसवाय) वित्त पोषण की योजना
  • कृषि बुनियादी संरचना निधि के अंतर्गत वित्तपोषण के लिए योजना
  • कृषि भूमि की खरीद के लिए योजना
  • शहरी बागवंत योजना
  • Silos/Godowns for Storage of Agriculture Produce
  • किसानों को दो पहिया (मोटरसायकल/स्कूटर) ऋण
  • हमारे बैंक से ऋण सुविधा का लाभ उठाने वाली खाद्य और कृषि इकाईयों को गोदाम/भंडारण रसीद के एवज में ऋण
  • प्लांटर कार्ड योजना
  • स्वयं की जमाराशियों (लाबोड / ओडीबीओडी) के एवज में ऋण / ओवरड्राफ्ट.
  • प्रधानमंत्री किसान उर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाभियान (पीएम- कुसुम योजना)
  • पराम्परागत वृक्षारोपण फसलें उगाने वाले संपदा / बागों की खरीद
  • बागवानी विकास हेतु योजना
  • सस्ते परिवहन के विकल्प के अंतर्गत कंप्रेस्ड बायोगैस संयंत्र (सीबीजी) के वित्तपोषण की योजना (एसएटीएटी)
  • पीएम फॉरमलाइजेशन के अंतर्गत माइक्रो फूड प्रोसेसिंग इंटरप्राइजेस को वित्तपोषण सुविधा हेतु योजना (पीएम एफएमई योजना)
  • Others

Thank you ! We have successfully received your details. Our executive will contact you soon.

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

  • What is the Agriculture Gold loan scheme of Bank of Baroda?
    • As the name suggests, this is the loan given against the security of gold ornaments/ jewellery/coins. This is mainly given for Agriculture, Allied and other Priority sector customers of our bank.
    • All individuals including staff members who are the owner of the gold. ornaments/jewellery/specially minted gold coins sold are eligible.
    • The weights of specially minted gold coins sold by banks do not exceed 50 grams per customer.
    • The gold ornament to be pledged should be of a minimum 18-carat purity.
    • The applicant should be local resident & must have a saving account with the Branch.
    • No third party loan to be granted.
  • What should be the age of the borrower?

    Minimum 18 years and maximum 70 years.

  • What is the assessment of the loan limit?

    The loan Limit is arrived at the value of security i.e. gold offered, net of the margin. However, in case of agriculture purpose, the scale of finance is also considered apart from the advance value of the pledged gold ornaments/ jewellery. Also, the loan limit is restricted to the value of gold with applicable margin.

  • What is the amount of loan?
    • For Gold Loan maximum loan amount is Rs. 25 lakhs per borrower.
    • No minimum loan amount stipulated.
    • Multiple Loan accounts are permitted.
  • What is the margin?

    Loan to Value (LTV) decided by Bank (time to time).

  • What is the repayment period and pre-payment charges?

    The repayment period is maximum 12 months. No pre-payment charges

  • Whether loans under this scheme can be availed from any of the branches?
    • No, loans under this scheme can be granted by designated and identified Branches only. The pre-condition is that the prospective borrower should have his Savings Bank account.

    At present more than 9500+ Branches are sanctioning Gold Loan at all India level.

  • What are the charges?

    Processing Charges

    • Up to Rs 3.00 Lakhs – NIL
    • Above Rs. 3.00 lakhs – Rs. 25.00 lakhs - 0.25% of the sanctioned limit + GST (Maximum Rs 3500 +GST )

    Other applicable charges

    • Only assayer charges @ 50 paise per every Rs 100 net assayed value of Gold ornaments with a minimum of Rs 25 and a maximum of Rs 350 per assaying to be recovered from the borrower.
  • Will the loan be available by pledging gold coins?
    • Yes, a loan can be availed against the pledge of gold coins sold by the banks. A maximum limit of 50 gm per customer will be eligible for Gold Loan.
  • Is part payment is allowed?
    • Yes, part payment is allowed without any charges.
  • Is part-release of the pledged Gold ornament is allowed?
    • No.
  • What are the main USP’s of the Banks Agriculture Gold Loan scheme?
    • Instant gold loan and quick servicing
    • Minimum 18-carat purity gold
    • No prepayment/pre-closure charges
    • No processing charges up to Rs. 3 lakhs for agriculture purpose
    • Utmost security of your ornaments
    • More than 9500+ branches disbursing Gold Loan at all India level

संबंधित उत्पाद

  • ट्रैक्टर के लिए नई योजना

  • कृषि के अंतर्गत खाद्य और कृषि आधारित इकाइयों को अग्रिम

  • कृषि स्नातकों द्वारा एग्रीकलीनिक एवं एग्री बिजनेस केंद्रों की स्थापना

  • कृषि विकास गतिविधियों के वित्तपोषण हेतु योजना

  • बड़ौदा पशुपालन एवं मछली पालन किसान क्रेडिट कार्ड (बीएएचएफ़केसीसी) योजना

  • बड़ौदा किसान क्रेडिट कार्ड (बीकेसीसी)

  • बड़ौदा किसान तत्काल ऋण योजना

  • बड़ौदा स्वच्छता योजना

  • भंडारण संरचना परियोजनाओं का निर्माण

  • फसलों की खेती (वृक्षारोपण और बागवानी फसलों के अलावा)

  • वेयरहाउस रसीद के एवज में वित्तपोषण

  • किसानों को अनुकूल सेवाएं प्रदान करने वाली वित्तपोषण एजेंसियों को वित्तपोषण

  • कृषि भवनों एवं संरचनाओं के निर्माण हेतु वित्तपोषण

  • डेयरी, मुर्गीपालन, मत्स्य पालन आदि उद्योग के विकास हेतु वित्तपोषण

  • कृषि उत्पाद कंपनियों / संगठनों (एफपीसी / एफपीओ) को वित्तपोषण हेतु योजना

  • किसान को चार पहिया वाहन हेतु ऋण का वित्तपोषण

  • सिंचाई वित्तपोषण

  • संयुक्त देयता समूह को वित्तपोषण

  • संरक्षित कृषि परियोजनाओं (ग्रीन हाउस

  • कृषि ट्रैक्टर और भारी कृषि मशीनरी का वित्तपोषण

  • स्वयं सहायता समूह (एसएचजी) के अंतर्गत वित्तपोषण

  • गोबर गैस / बायो गैस प्‍लांट का इंन्‍टॉलेशन

  • सौर उर्जा गृह बिजली प्रणाली का इंस्टालेशन

  • सोलर फोटोवोल्टिक पंप सेट के इंस्टालेशन के लिए

  • खाद्य और कृषि प्रसंस्करण इकाईयों को कार्यशील पूंजी सहायता के लिए ओवरड्राफ्ट सुविधा

  • छोटी दुग्धालय इकाइयों के वित्तपोषण हेतु योजना

  • एनबीएफसी – एमएफआई को वित्तपोषण हेतु योजना

  • प्रधान मंत्री मत्स्य संपदा योजना (पीएमएमएसवाय) वित्त पोषण की योजना

  • कृषि बुनियादी संरचना निधि के अंतर्गत वित्तपोषण के लिए योजना

  • कृषि भूमि की खरीद के लिए योजना

  • शहरी बागवंत योजना

  • Silos/Godowns for Storage of Agriculture Produce

  • किसानों को दो पहिया (मोटरसायकल/स्कूटर) ऋण

  • हमारे बैंक से ऋण सुविधा का लाभ उठाने वाली खाद्य और कृषि इकाईयों को गोदाम/भंडारण रसीद के एवज में ऋण

  • प्लांटर कार्ड योजना

  • स्वयं की जमाराशियों (लाबोड / ओडीबीओडी) के एवज में ऋण / ओवरड्राफ्ट.

  • प्रधानमंत्री किसान उर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाभियान (पीएम- कुसुम योजना)

  • पराम्परागत वृक्षारोपण फसलें उगाने वाले संपदा / बागों की खरीद

  • बागवानी विकास हेतु योजना

  • सस्ते परिवहन के विकल्प के अंतर्गत कंप्रेस्ड बायोगैस संयंत्र (सीबीजी) के वित्तपोषण की योजना (एसएटीएटी)

  • पीएम फॉरमलाइजेशन के अंतर्गत माइक्रो फूड प्रोसेसिंग इंटरप्राइजेस को वित्तपोषण सुविधा हेतु योजना (पीएम एफएमई योजना)

Are you Bank of Baroda Customer?

This is to inform you that by clicking on continue, you will be leaving our website and entering the website/Microsite operated by Insurance tie up partner. This link is provided on our Bank’s website for customer convenience and Bank of Baroda does not own or control of this website, and is not responsible for its contents. The Website/Microsite is fully owned & Maintained by Insurance tie up partner.


The use of any of the Insurance’s tie up partners website is subject to the terms of use and other terms and guidelines, if any, contained within tie up partners website.


Proceed to the website


Thank you for visiting www.bankofbaroda.in

X
We use cookies (and similar tools) to enhance your experience on our website. To learn more on our cookie policy, please click here. By continuing to browse this website, you consent to our use of cookies.