Enjoy Banking on the Go.
Download Mobile Banking App

Download
Banner

दिल्‍ली में उच्‍च शिक्षा पाने के लिए उच्‍च शिक्षा और कौशल विकास गारंटी योजना भूमिका

दिल्लीक में उच्चय शिक्षा पाने के लिए उच्चो शिक्षा और कौशल विकास गारंटी योजना

भूमिका

दिल्लीा एनसीटी की सरकार ने अपनी 70 कार्यबिंदुओं के भाग के रुप में छात्रों, जो दिल्लीा में डिप्लो मा या डिग्री स्तीर के पाठ्यक्रम या विनिर्दिष्टत कौशल विकास पाठ्यक्रम करना चाहते हैं और जिन्हों ने दिल्ली से क्लारस X और क्ला स XII किया है, के लिए उच्चप शिक्षा और कौशल विकास योजना आरंभ की है. ऐसे पाठ्यक्रमों के लिए जिनकी पात्रता परीक्षा क्लाहस X है, वैसे छात्र जिन्होंरने दिल्लीह से क्लाेस X पूरा किया है, इस योजना के लिए पात्र होंगे. योजना के अंतर्गत, छात्रों द्वारा लिए गए रु. 10 लाख तक के बैंक ऋणों को चूक के मामले में बैंकों को गारंटी प्रदान करने के लिए सरकार द्वारा बनाए गए उच्च् शिक्षा और कौशल विकास क्रेडिट गारंटी निधि के माध्यरम से गारंटी प्रदान की जाएगी. छात्रों को किसी भी संपार्श्विक या मार्जिन निधि की आवश्यिकता नहीं है और छात्र के बैक ग्राउंड पर ध्या्न दिए बिना यह एक यूनिवर्सल योजना होगी.

योजना का उद्देश्‍य

निम्नातनुसार उल्लिखित उच्चच शिक्षा और कौशल विकास गारंटी योजना दिल्लीउ में उच्च शिक्षा पाने के लिए गुणवान छात्रों को बैंकिंग प्रणाली से वित्ती य सहायता प्रदान करने का उद्देश्यल रखती है. बल इस बात पर है कि गुणवान छात्र को उच्चि शिक्षा प्राप्त् करने के लिए उचित और वहने करने योग्य नियम और शर्तों पर बैंकिंग प्रणाली से वित्तीउय सहायता सहित उचित अवसर प्रदान किया जाए.

उच्चर शिक्षा क्रेडिट गारंटी निधि की प्रमुख विशेषता

यह योजना उच्चह शिक्षा और कौशल विकास क्रेडिट गारंटी निधि (जिसे इसके बाद निधि कहा जाएगा) नामक रु. 30 करोड़ के आधारभूत निधि के निर्माण का लक्ष्यल रखती है, जिसे प्रारंभ में उचित गारंटी प्रदान करने के लिए प्रयोग में लाया जाएगा. इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए उत्सुखक बैंकों को गारंटी शुल्कन के गारंटी मांग सूचना नोट (सीजीडीएएन) की तारीख से 30 दिनों के भीतर गारंटी कवर का आवेदन करने की तारीख पर बकाया राशि का 0.50% को वार्षिक गारंटी शुल्कख (एजीएफ) के रुप में भुगतान करना होगा. सभी आगामी एजीएफ को वित्तीकय वर्ष की शुरुआत में बकाया ऋण राशि के आधार पर संग्रहित किया जा सकता है. ऋण में चूक होने और दावा करने पर, ऋण सुविधा के वापस मांगने और नियमों के सम्य क प्रक्रिया के अंतर्गत वसूली कार्रवाई आरंभ करने के पश्चाणत दावे की 75% राशि चुकाई जाएगी और दावे की शेष 25% की राशि का भुगतान, वित्ती य संस्थाीन द्वारा उठाए गए निवल / अंतिम हानि का पता लगाते हुए और वसूली कार्रवाई की समाप्ति के बाद किया जाएगा. यह योजना भारतीय बैंक संघ (आईबीए) के सदस्य् बैंकों या दिल्लीब एनसीटी की सरकार द्वारा निर्धारित अन्या बैंकों / वित्तीेय संस्था्नों द्वारा स्वीिकृत शिक्षा ऋण तक ही सीमित है.

बकाया राशि का 0.50% का गारंटी शुल्क् उधारकर्ता से वसूला और न्याास को भुगतान किया जाएगा.

पात्रता मानदंड

छात्र पात्रता

  • छात्रों, जो दिल्लीो में डिप्लोकमा या डिग्री स्त र के पाठ्यक्रम या विनिर्दिष्ट कौशल विकास पाठ्यक्रम को पूरा करना चाहते हैं और जिन्हों ने दिल्लील से क्ला स X और क्लारस XII किया है, इस योजना के अंतर्गत पात्र है. ऐसे पाठ्यक्रमों के लिए जिनकी अर्हक परीक्षा क्लाास X है, छात्र जिन्होंयने दिल्ली से क्लातस X पूरा किया है इस योजना के लिए पात्र होंगे. छात्र, जो दिल्ली् एनसीटी सरकार के कर्मचारियों के या दिल्लीि एनसीटी सरकार के साथ पदस्था्पित अधिकारी / सरकारी कर्मचारियों के बच्चें भी योजना के अंतर्गत पात्र होंगे.
  • छात्र ने माध्यामिक परीक्षा / उच्ची माध्यलमिक परीक्षा / आवश्यीक अर्हक परीक्षा पूरा करने के बाद प्रवेश प्रक्रिया / गुणवत्ताय के आधार पर चयन प्रक्रिया के माध्यसम से दिल्ली में मान्य‍ता प्राप्ता संस्थारन में उच्च‍ शिक्षा पाठ्यक्रम या विनिर्दिष्टा कौशल विकास पाठ्यक्रम (स्नासतक, स्नालतकोत्त‍र और डॉक्टररेट डिग्री सहित डिग्री या डिप्लोिमा) में प्रवेश लिया होना चाहिए.
  • सरकारी संस्थापन / विश्वेविद्यालय और दिल्लीम विश्व.विद्यालय के अन्यन कॉलेजों से सभी मान्यंता प्राप्त डिप्लोकमा / डिग्री पाठ्यक्रमों के लिए ऋण हेतु गारंटी उपलब्धद होगी. दिल्लीक में स्थित एनएएसी / एनबीए / एसएफआरसी ग्रेडिंग वाले निजी / स्वलयं – वित्त पोषित संस्थािनों के लिए भी उपलब्धी होगी. विभाग सभी निजी संस्थारनों को एनएएसी / एनबीए से प्रमाणन प्राप्तद करने के लिए राजी करेगा. उस समय तक, निजी संस्थाकनों के लिए उच्चनतर शिक्षा निदेशालय और प्रशिक्षण और तकनीकी शिक्षा निदेशालय द्वारा गठित तृतीय राज्यए शुल्क् विनियामक समिति (एसएफआरसी) द्वारा दिए जाने वाले ग्रेडिंग का प्रयोग किया जाए, क्योंकि यह ग्रेडिंग इंफ्ररास्ट्रिक्चएर, संकाय और संस्थाेन के शैक्षणिक मानकों पर आधारित है, जैसा कि उनके द्वारा वहन किए जा रहे व्यीय भी है.
  • दिल्लीह एनसीटी सरकार द्वारा विनिर्दिष्टग किसी भी तकनीकी प्रशिक्षण / कौशल विकास संस्थागन या विश्वि स्तीरीय कौशल केन्द्रों या तकनीकी / प्रशिक्षण कौशल विकास के संस्थावनों के पाठ्यक्रमों के लिए भी उपलब्धी होगा.
  • नियोजनीयता के आधार पर अन्यल प्रसिद्ध और मान्यीता प्राप्तव संस्थाननों पर विचार किया जा सकता है.
  • निजी संस्थारन, जिसमें प्रवेश लिया गया हो, को एनएएसी / एनबीए ग्रेडिंग होनी चाहिए* चूंकि वर्तमान में सभी संस्थासनों के पास एनएएसी / एनबीए ग्रेडिंग नहीं है, सीमित अवधि के लिए एसएफआरसी ग्रेडिंग को भी विचार में लिया जा सकता है.**

*एनएएसी / एनबीए प्रमाणन वाले निजी संस्था नों के लिए, न्यूलनतम ए या बी ग्रेड होना आवश्याक है.

**एसएफआरसी ग्रेडिंग वाले निजी संस्थाडनों के लिए, ए+ या ए ग्रेड होना आवश्याक है.

(एसएफआरसी ग्रेडिंग तृतीय राज्य शुल्की विनियामक समिति (एसएफआरसी) द्वारा दी जाती है और ग्रेडिंग इंफ्ररास्ट्र्क्च र, संकाय और संस्थाान के शैक्षणिक मानकों सहित विभिन्नह मानदंडों पर आधारित है. संस्थांनों को सूचित किया गया है कि तत्का ल एनएएसी / एनबीए प्रमाणन प्राप्ता करें).

गुणवान छात्र (जो मेरिट कोटा के अंतर्गत स्थांन के लिए अर्हता प्राप्ते करते है) भी योजना के अंतर्गत ऋण हेतु पात्र होगा भले ही छात्र मैनेजमेंट कोटा के अंतर्गत पाठ्यक्रम करने का विकल्पत लेता है.

दिल्लीत में शिक्षा के लिए पात्र पाठ्यक्रम : (सांकेतिक सूची)

  • यूजीसी / सरकार / एआईसीटीई / आईसीएमआर आदि द्वारा मान्यठता प्राप्तद कॉलेजों / विश्वे विद्यालयों द्वारा चलाए जाने वाले स्नागतक / स्नाीतकोत्तआर डिग्री और पीजी डिप्लो‍मा के अनुमोदित पाठ्यक्रम.
  • आईसीडब्यूाने ए, सीए, सीएफए आदि जैसे पाठ्यक्रम.
  • आईआईटी, एनआईएफटी, एनएलयू, आईआईएफटी आदि द्वारा चलाए जाने वाले पाठ्यक्रम
  • यदि पाठ्यक्रम दिल्लीए में किया जा रहा है, तो पॉलिटेक्निक (बहुशिल्प ) आदि द्वारा चलाए जाने वाले सहित वैमानीकी, विमानक प्रशिक्षण, पोत परिवहन जैसे सामान्य् डिग्री / डिप्लो्मा पाठ्यक्रम, नागरिक विमानन महानिदेशक / पोत परिवहन / नर्सिंग काउंसिल या अन्यन विनियामक संस्थाठ द्वारा अनुमोदित डिग्री / नर्सिंग, भौतिक चिकित्साक या अन्य् कोई शिक्षा में डिप्लो्मा, जैसा भी मामला हो.
  • दिल्लीन एनसीटी सरकार द्वारा विनिर्दिष्ट‍ के अनुसार कौशल विकास पाठ्यक्रम.

नोट :

  • उपर्युक्तञ सूची सांकेतिक है. इस योजना के अंतर्गत मान्य ता प्राप्तं संस्थाीनों द्वारा उपलब्धो कराए गए तकनीकी / व्या वसायिक पेशेवर / अन्यइ डिग्री, स्ना्तकोत्तपर डिग्री / डिप्लोरमा के परिणामस्वएरुप अन्‍य रोजगार उन्मु/ख पाठ्यक्रमों पर शाखा विचार कर सकती है.
  • रोजगार के आधार पर उपर्युक्ता के अलावा प्रसिद्ध संस्थाडनों द्वारा उपलब्धद कराए गए पाठ्यक्रम पर भी विचार किया जा सकता है.
  • शाखाएं अन्य. पाठ्यक्रमों पर भी विचार कर सकती है जिन्हें भारत में शिक्षा के लिए शिक्षा ऋण में ‘बड़ौदा ज्ञान’ योजना के अंतर्गत कवर किया गया है.
  • गारंटी केवल उन संस्थाकनों के ऋणों के लिए उपलब्धै होगी जिनकी फीस सरकार द्वारा नियंत्रित की जाती है.

ऋण के लिए विचार में लिए जाने वाले खर्च

  • कॉलेज ++/ विद्यालय / हॉस्टशल* को देय फीस
  • परीक्षा / वाचनालय / लैबोरेटरी फीस
  • छात्र उधारकर्ता के लिए बीमा प्रीमियम
  • जमानती जमाराशि / भवन निधि / संस्थाक के बिल / पावती के साथ समर्थित वापसी योग्य जमाराशि के बिल / रसीद. (बशर्ते कि यह राशि संपूर्ण पाठ्यक्रम के लिए कुल ट्यूशन फिस के 10% से अधिक ना हो.)
  • पुस्तक / सामग्री / उपकरण / यूनिफॉर्म*** की खरीद.
  • उचित दर पर कंप्यूटर की खरीद – यदि पाठ्यक्रम पूरा करने के लिए आवश्यक हो. ***
  • पाठ्यक्रम पूरा करने के लिए आवश्य क अन्यर कोई खर्च – जैसे अध्यवयन दौरा, प्रोजेक्टा कार्य, थीसिस आदि***
  • आवश्य*क ऋण की गणना करते समय, यदि छात्र उधारकर्ता को कोई छात्रवृत्ति प्राप्त हो, फीस आदि में छूट हो तो इसे विचार में लिया जाएगा.
  • यदि ऋण निर्धारण में छात्रवृत्ति को शामिल किया गया हो, तो यह सुनिश्चित किया जाए कि जब सरकार से राशि प्राप्ति हो तो वह छात्रवृत्ति राशि ऋण खाते में जमा होनी चाहिए.

टिप्पीणी :

++ योजना के अंतर्गत शामिल पाठ्यक्रम हेतु मैनेजमेंट कोटा के सीट की लिए राज्य सरकार / सरकार अनुमोदित विनियामक संस्थां द्वारा अनुमोदित फीस पर चुकौती की व्यमवहार्यता के अधीन विचार किया जाएगा.

* यदि छात्र बाहरी निवास के लिए चयन करता है / आवश्य्क है, तो ऐसे मामले में उचित निवास और बोर्डिंग प्रभार पर विचार किया जाएगा.

*** यह संभावना है कि उपर्युक्ते मद सं vi, vii और viii के अंतर्गत आने वाली मदें कॉलेज प्राधिकारियों द्वारा विनिर्दिष्ट शुल्कक और प्रभारों की सूची में उपलब्ध नहीं होंगी. अतः इन शीर्षों के अंतर्गत यथार्थवादी मूल्यांुकन किया जाना चाहिए.

वित्तथ की राशि

उपर्युक्ती पैरा 5 के अनुसार गणना किए गए आवश्यरकता आधारित वित्तग को पूरा करने के लिए पैरा 7 में उल्लिखित किए गए अनुसार मार्जिन की शर्त पर विचार किया जाएगा :

दिल्लीि में शिक्षा – अधिकतम रु. 10 लाख.

  • सामान्यफतः रु. 7.5 लाख तक के ऋणों के संबंध में भारत सरकार की शिक्षा ऋण के लिए क्रेडिट गारंटी निधि योजना (सीजीएसईएल) के अंतर्गत निर्धारित शर्तों से संतुष्टं होने पर बैंक योजना के परिचालन में आने पर प्रदान कर सकते है.
  • तथापि रु. 7.5 लाख से अधिक और रु. 10 लाख तक के ऋण और उन निजी संस्थाेनों से संबन्धित ऋण, जिनके पास वर्तमान में भारत सरकार की आवश्य्कता के अनुसार एनएएसी प्रमाणन नहीं है लेकिन ए+ या ए की एसएफआरसी ग्रेडिंग है या अन्याथा दिल्लीे एनसीटी सरकार की योजना के अंतर्गत आवश्यककताओं को संतोषजनक रुप से पूरा करते है तो इस योजना के अंतर्गत कवर किए जाएंगे.

मार्जिन

रु. 10 लाख तक – शून्य

प्रतिभूति

रु. 10 लाख तक – माता-पिता / विधिक संरक्षक को सह-उधारकर्ता(ओं) होगा/होंगे. – कोई प्रतिभूति नहीं

टिप्पिणी :- ऋण दस्ताीवेज छात्र द्वारा निष्पादित किए जाएंगे और मा‍ता – पिता / विधिक संरक्षक को सह – उधारकर्ता के रुप में रखा जाएगा.

ब्यापज दर

रु. 7.50 लाख तक : बीआरएलएलआर + 2.00 % प्रति वर्ष

रु. 7.50 लाख से अधिक : बीआरएलएलआर + 1.75 % प्रति वर्ष

  • यदि चुकौती शुरु होने से पहले शिक्षा अवधि और अनुवर्ती अधिस्थागन अवधि के दौरान ब्यािज का भुगतान किया जाता है तो 1% ब्याअज रियायत (ऋण की पूरी अवधि के लिए) प्रदान की जानी है. (शिक्षा ऋण पर मास्टनर परिपत्र बीसीसी:बीआर:107/454 दिनांक 01.09.2015 के अनुबंध – 4 में उल्लिखित के अनुसार मासिक ब्यारज में 1% रियायत के लिए दिशानिर्देश लागू होंगे.)
  • कन्याक छात्राओं को ब्या ज दर में विशेष रियायत नहीं दी जाएगी.
  • शिक्षा अवधि के दौरान और चुकौती अवधि की शुरुआत तक साधारण ब्यायज प्रभारित किया जाएगा.

टिप्पमणी :-

छात्रों के लिए शिक्षा अवधि और चुकौती की शुरुआत तक अधिस्थनगन अवधि के दौरान ब्यामज का भुगतान करना वैकल्पिक होगा. चुकौती के लिए इएमआई निर्धारित करते समय उधार ली गई मूल राशि में उपचित ब्यालज जोड़ा जाएगा.

मूल्यांकन / स्वीएकृति / संवितरण

  • आवेदन या तो सीधे शाखा के माध्य म से या ऑनलाइन मोड़ से प्राप्तक किए जाएंगे. आवेदन प्राप्ति करने पर, संदर्भ संख्या सूचित करते हुए साधारण पावती जारी की जाएगी. पावती पत्र में बैंक के अधिकारी के विवरण भी दिए जाएंगे, जिनको आवेदन के निपटान में देरी के मामले में संपर्क किया जा सकता है.
  • तहसीलदार (कार्यकारी मजिस्ट्रेवट), राजस्वे विभाग, दिल्लीे एनसीटी सरकार द्वारा जारी अधिवास प्रमाणपत्र को यदि आवश्यकक हो तो बैंक द्वारा अधिवास प्रमाणपत्र के रुप में स्वीाकार किया जाएगा.
  • सामान्यरतः संबन्धित दस्ताावेजों के साथ विधिवत भरा हुआ आवेदन प्राप्ति होने के 15 दिनों के भीतर स्वीसकृति / अस्वी कृति के बारे में सूचित किया जाएगा.
  • सामान्यर स्थिति में ऋण के मूल्यां कन के समय सिर्फ छात्र की भविष्यग में आय की संभावनाओं पर विचार किया जाएगा.
  • राज्या स्त्रीय बैंकर्स समिति (एसएलबीसी) तिमाही आधार पर दिल्लीव के छात्रों को भारत सरकार की योजना के अंतर्गत स्वीतकृत ऋणों से संबंधित जानकारी प्रदान करेगी.
  • ऋण आवेदन की अस्वीोकृति, यदि कोई हो, संबंधित शाखा के नियंत्रण प्राधिकारी की सहमति से और उच्चऋतर शिक्षा निदेशालय, नई दिल्लीक को सूचित करते हुए तथा छात्र को अस्वीाकृति के लिए कारण बताते हुए सूचित की जाएगी.
  • छात्र अपना ऋण आवेदन अपने माता-पिता के निवास स्थान शैक्षणिक संस्थाकन की निकटतम शाखा में प्रस्तु्त कर सकते हैं.
  • यथासंभव ऋण का संवितरण आवश्यसकता / मांग के अनुसार सीधे संस्थाकन / उपकरणों / सामग्र के विक्रेताओं को चरणों में किया जाना चाहिए.
  • किसी भी तरह की शिकायत के संबंध में बैंकों द्वारा अस्वी कृत किए गए मामलों के शिकायत के निपटान के लिए शिकायत निवारण समिति का गठन किया जाएगा, जिसकी अध्यक्षता निदेशक उच्च शिक्षा द्वारा की जाएगी और भारतीय बैंक संघ एवं केनरा बैंक से एक-एक सदस्य होंगे.

चुकौती

चुकौती अवकाश / अधिस्थागन – पाठ्यक्रम अवधि + 1 वर्ष.

  • यदि छात्र निर्धारित अवधि के भीतर पाठ्यक्रम पूरा नहीं कर पाता है, तो पाठ्यक्रम पूरा करने के लिए अधिकतम 2 वर्षों की विस्तारित अवधि की अनुमति दी जा सकती है. यदि छात्र उसके नियंत्रण के बाहर के किसी कारणवश पाठ्यक्रम पूरा नहीं कर पाता है, तो स्वीीकृति प्राधिकारी अपने स्वउयं के विवेकाधिकार पर पाठ्यक्रम पूरा करने की आवश्यतकता मानकर ऐसे समयावधि को बढ़ाने के बारे में विचार कर सकता है. यदि छात्र पाठ्यक्रम बीच में ही छोड़ देता है, छात्र / मा‍ता – पिता के साथ विचार विमर्श कर बैंक द्वारा उचित चुकौती शेड्यूल बनाया जाएगा.
  • चुकौती अवकाश के दौरान उपचित ब्या्ज को मूल राशि में जोड़ा जाएगा और चुकौती हेतु समान मासिक किस्तोंक (इएमआई) का निर्धारण किया जाएगा.
  • सभी श्रेणियों के लिए समान मासिक किस्तों् में 15 वर्ष की अवधि हेतु ऋण की चुकौती की जाएगी.

टिप्पभणी :- चुकौती अवधि के दौरान किसी भी समय ऋण की समय-पूर्व चुकौती के लिए दंड नहीं लगाया जाएगा.

बीमा

  • छात्र उधारकर्ता के लिए बीमा कवर वैकल्पिक है.
  • मेसर्स इंडिया फर्स्टए बीमा के साथ बॉब की टाइअप के अंतर्गत शिक्षा ऋण के लिए मौजूदा ग्रुप क्रेडिट लाइफ इंश्यूधरंस के अंतर्गत शिक्षा ऋण उधारकर्ता को बीमा कवर प्रदान करने की सुविधा उपलब्धद है, जो शाखाओं द्वारा योजना के उधारकर्ताओं की सहमति से प्रदान किया जा सकता है.

अनुवर्ती कार्रवाई / निगरानी

बैंक, कॉलेज / विश्वन विद्यालय / संस्था न प्राधिकारियों से संपर्क करते हुए ऋण लेने वाले छात्रों के संबंध में नियमित अंतराल पर प्रगति रिपोर्ट प्राप्त करेगा. यूआईडीएआई द्वारा जारी यूआईडी संख्या / पैन को भी बैंक के सिस्ट म में दर्ज किया जाना है. ऋण के गैर – निष्पाडदक आस्ति (एनपीए) होने पर व्यसक्ति को दिल्लीक एनसीटी सरकार की कोई भी परियोजना या योजना के लाभों को रोकने के लिए तत्कादल इस यूआईडीएआई / आधार लिंकेज का उपयोग किया जा सकता है. यदि आवश्याकता हो तो छात्रों को शिक्षा ऋण प्रदान करने के लिए बैंक शैक्षणिक संस्थाान के साथ समझौता ज्ञापन कर सकता है. तथापि छात्र को अपनी सुविधानुसार/विकल्प के अनुसार किसी भी बैंक को संपर्क करने की स्व तंत्रता होगी. बैंकों और शैक्षणिक संस्थासनों के बीच शिक्षा ऋणों की आस्ति गुणवत्ता की वार्षिक समीक्षा की जाएगी.

प्रोसेसिंग प्रभार

योजना के अंतर्गत स्वीएकृत ऋणों पर कोई प्रोसेसिंग प्रभार नहीं लगाया जाएगा.

अंतिम देखा गया पेज

X
Back to Top