Enjoy Banking on the Go.
Download Mobile Banking App

Download
Banner

बड़ौदा टैंकर्स ऋण

बड़ौदा टैंकर्स ऋण

उत्‍पाद विवरण

स्‍टैण्‍ड अप इंडिया योजना के अंतर्गत तेल विपणन कंपनियों (आईओसी/बीपीसीएल/एचपीसीएल) द्वारा परिवहन संविदा के सफल आबंटितियों को एलपीजी टैंकरों की खरीद के लिए एससी/एसटी उद्यमियों को वित्‍तपोषण.

प्रमुख आकर्षण

  • तत्‍काल और बिना परेशानी के ऋण अनुमोदन हेतु संरचित उत्‍पाद
  • स्‍टैण्‍ड – अप इंडिया योजना के अंतर्गत कोलेटरल रहित ऋण सुविधा
  • आकर्षक ब्‍याज दर
  • 60 माह तक की सुदीर्घ अवधि
  • रु. 100 लाख तक की अधिक राशि की पात्रता
  • पूरे भारत में उपलब्ध
  • न्‍यूनतम दस्‍तावेजीकरण

उत्‍पाद विशेषताएं

  • पात्र समूह : एससी/एसटी उद्यमी जिन्होंने तेल विपणन कंपनियों (आईओसी/बीपीसीएल/एचपीसीएल) से निविदा (थोक एलपीजी परिवहन करार)  प्राप्‍त की है. गैर-वैयक्तिक उद्यमों के मामले में, 51% शेयरधारिता और नियंत्रक शेयर एससी/एसटी द्वारा धारित होने चाहिए.  
  • उद्देश्‍य : तेल विपणन कंपनियों के साथ वाणिज्यिक उपयोग के लिए नए टैंकर ट्रक की खरीद हेतु.
  • सुविधा का प्रकार : मांग ऋण / मीयादी ऋण / बेजमानती ओवरड्राफ्ट / बैंक गारंटी
  • सीमा : रु. 10 लाख से अधिक और अधिकतम रु. 100 लाख  (एफबी और एनएफबी के साथ)
  • चुकौती अवधि : 60 माह
  • मार्जिन : मीयादी ऋण 
    विकल्‍प  I – न्‍यूनतम 25%
    विकल्‍प II – न्‍यूनतम 10%
    केन्‍द्र / राज्‍य की पात्र योजनाओं के अनुकूल मार्जिन राशि प्रदान की जाएगी.
    ऐसे मामलों में उधारकर्ता से न्‍यूनतम मार्जिन अंशदान 10% होगा.
  • प्रतिभूति : कोलेटरल रहित सुविधा
  • आयु सीमा :
    न्‍यूनतम आयु  : 21 वर्ष का आवेदक
    अधिकतम आयु  : 55 वर्ष

ब्‍याज दर और प्रभार

  • विकल्‍प  I – 25% मार्जिन के साथ  - मीयादी ऋण /ओवरड्राफ्ट – 12 माह का एमसीएलआर  + 0.50%
    विकल्‍प  II – 10%मार्जिन के साथ  - मीयादी ऋण /ओवरड्राफ्ट – 12 माह एमसीएलआर + 2.0%
  • बैंक गारंटी पर कमीशन : कार्ड दर
  • एकीकृत प्रोसेसिंग प्रभार : रु.15,000/- एकसमान दर  + कर

अन्‍य नियम और शर्तें

  • सीजीएसएसआई शुल्‍क : पात्र मामलों में सीजीएसएसआई के वार्षिक शुल्‍क / नवीकरण शुल्‍क आदि का भुगतान 50% तक की सीमा तक बैंक द्वारा और शेष 50% आवेदक द्वारा वहन किया जाएगा, जहां रु. 50.00 लाख तक की  सीमा स्‍वीकृत की गई है और रु. 50.00 लाख से अधिक की सीमा के लिए पूरे गारंटी शुल्‍क का भुगतान उधारकर्ता द्वारा किया जाएगा.
  • प्रतिभूति : मीयादी ऋण के अंतर्गत वित्‍तपोषित वाहन का दृष्टिबंधक

चुकौती

  • मीयादी ऋण – 6 माह की अधिस्‍थगन अवधि के साथ अधिकतम 66 माह (डोर टू डोर) अर्थात 60 माह में चुकौती
  • बेजमानती ओवरड्राफ्ट – वाहन के परिचालन के आरंभ के बाद 2 माह तक प्रारंभिक व्‍यय को पूरा करने के लिए और तत्‍पश्‍चात 36 समान किस्‍तों में ऋण को चुकता करना है. जब कभी ब्‍याज लगाया जाएगा, उसका भुगतान करना होगा. 

अंतिम देखा गया पेज

X
Back to Top