Enjoy Banking on the Go.
Download Mobile Banking App

Download
Banner

बैंक ऑफ बड़ौदा एमसीए के स्पाइस एजाइल प्लेटफार्म के साथ

Instant Account Opening

त्वरित चालू खाता

यह कंपनियों के निगमन के समय खोला व आबंटित किया जानेवाला चालू खाता है. इस संबंध में ई-मेल/एसएमएस के माध्यम से सूचित किया जाता है.

No Minimum Balance

पृथक पंजीकरण आवश्यक नहीं 

जीएसटी आईएन, ईपीएफओ एवं ईएसआईसी के लिए चालू खातों का स्वत: पंजीकरण. विभिन्न प्रकार के अन्य पंजीकरण के लिए अलग-अलग सरकारी प्राधिकारियों को आवेदन करना आवश्यक नहीं है.

Banking solutions at a single touch

कहीं भी एक्टिवेशन एवं न्यूनतम केवायसी

न्यूनतम केवायसी दस्तावेजों के साथ बैंक ऑफ बड़ौदा की किसी भी शाखा में अपने SPICE + चालू खाता को सक्रिय कर

Payments & Ticket Booking

प्राथमिकता प्राप्त ग्राहक सेवा चैनल

एमसीए SPICE समर्थित कंपनियों की वित्तीय जरूरतों को समझने तथा इससे संबंधित परामर्श देने हेतु समर्पित ग्राहक सेवा चैनल तैयार किया गया है.

प्रश्न : क्या एमसीए चालू खाता निरस्त/रद्द हो सकता है ?

उत्तर: जी नहीं

प्रश्न : क्या खाता खोलने का फार्म भरा जाना है ?

उत्तर: खाता खोलने के फार्म को पूर्णतया भरा जाना है

प्रश्न : ग्राहकों से लिए जाने वाले दस्तावेज

उत्तर:
  • शाखा द्वारा खाता का संचालन करने वाले अधिकृत निदेशक का पता व पहचान प्रमाण पत्र एवं फोटोग्राफ सहित सभी केवायसी दस्तावेजों की स्व अभिप्रमाणित प्रतियां साथ ही चालू खाता खोलने के फार्म के निर्धारित स्थान पर उनके हस्ताक्षर कराए जाएं.
  • परिचालन अनुदेशों का सख्तीपूर्वक पालन किया जाना चाहिए.
  • कंपनी के पंजीकृत कार्यालय का पता और संचार के पते में अंतर होने पर शाखा द्वारा इससे संबंधित दस्तावेज भी प्राप्त किया जाए.
  • कंपनी के निदेशक मंडल (बोर्ड) के प्रस्ताव की प्रति ली जाए जिसके द्वारा कंपनी के निदेशकों को वैयक्तिक अथवा संयुक्त रूप से खाता के परिचालन के लिए अधिकृत किया गया हो.

प्रश्न : SPICE + वेबफॉर्म के माध्यम से निगमन सेवा का लाभ उठाने हेतु प्रथम चरण क्या है ?

उत्तर: SPICE + वेबफार्म लॉगिन उपरांत सेवा है और मौजूदा पंजीकृत प्रयोक्ता को अपने विवरणों के साथ इसमें लॉगिन करना है. नए प्रयोक्ताओं को इस सेवा के उपयोग से पूर्व अपना लॉगिन खाता बनाना आवश्यक है.

प्रश्न : क्या SPICE + के माध्यम से निगमित सभी कंपनियों द्वारा बैंक खाता खोलना अनिवार्य है ?

उत्तर: जी हां, दिनांक 23 फरवरी, 2020 से प्रभावी सभी नई कंपनियां जो SPICE + के माध्यम से निर्मित हैं के लिए AGILE PRO लिंक के माध्यम से कंपनी का बैंक खाता खोलने हेतु आवेदन करना अनिवार्य ह

प्रश्न : SPICE +भाग 1 क्या है ? क्या इसे अलग से फाइल किया जा सकता है ?

उत्तर: कंपनी का नाम SPICE + के भाग ए में सुरक्षित रखा जा सकता है. यदि आवेदक नाम, निगमन और अन्य समेकित सेवाओं हेतु एक साथ आवेदन करना चाहते हैं तो वह संबंधित आवश्यक सूचना भाग ए एवं भाग बी के में देकर ऐसा कर सकते हैं.

प्रश्न : क्या SPICE + के माध्यम से निगमित रु. 15,00,000 तक की अधिकृत पूंजी वाली कंपनी के लिए शून्य फाइलिंग फीस लागू है ?

उत्तर: जी हां, SPICE + के माध्यम से निगमित रु. 15,00,000 तक की अधिकृत पूंजी वाली कंपनी को “जीरो फाइलिंग की सुविधा दी जाएगी.

प्रश्न : SPICE + (पीडीएफ जनरेट होने एवं डीएससी मिलने के पश्चात) में कितने बार परिवर्तन / संशोधन किया जा सकता है ?

उत्तर: SPICE + में संचित किए हुए उसी वेब फार्म आवेदन पत्र को संपादित कर पीडीएफ जनरेट करने, डीएससी लगाने एवं उसे अपलोड करते हुए इसमें 5 बार परिवर्तन/ संशोधन (पीडीएफ जनरेट होने एवं डीएससी फिक्स हो जाने के बावजूद) किया जा सकता है.

प्र : SPICE+ में (पीडीएफ जनरेट करने और डीएससी जोड़ने के बाद) कितनी बार परिवर्तन / संशोधन किए जा सकते हैं?

उत्‍तर : SPICE+ में (पीडीएफ जनरेट करने और डीएससी जोड़ने के बाद) सेव किए गए वेब फार्म एप्लिकेशन को, संशोधित पीडीएफ जनरेट करने डीएससी जोड़ने और उसी को अपलोड करने के बाद अद्यतन करते हुए पांच बार तक परिवर्तन / संशोधन किए जा सकते हैं.

प्र : SPICE+ भरने के बाद की प्रक्रिया क्‍या है?

उत्‍तर : जी नहीं. केवल महाराष्‍ट्र राज्‍य में दिनांक 23 फरवरी 2020 तक शामिल नई कंपनियों के संबंध में SPICE+ के माध्‍यम से व्‍यवसाय कर के लिए पंजीकरण करना अनिवार्य होगा.

प्र : क्या SPICE+ के माध्यम से पूरे भारत में शामिल सभी नई कंपनियों के लिए ईपीएफओ और ईसीआईसी के लिए पंजीकरण करना अनिवार्य होगा?

उत्‍तर : जी हां. दिनांक 23 फरवरी 2020 से शामिल की गई सभी नई कंपनियों के लिए ईपीएफओ और ईएसआईसी हेतु पंजीकरण करना अनिवार्य है एवं संबंधित एजेंसियों द्वारा ईपीएफओ और ईएसआईसी पंजीकरण संख्‍या अलग-अलग जारी की जाएगी.

प्र : क्या अब डीएससी प्राप्त करना प्रत्‍येक ग्राहक और / या निदेशकों के लिए अनिवार्य है?

उत्‍तर : जी हां. यदि ईओएमए और ईएओए के लिए ग्राहकों और / या निदेशकों की संख्या बीस तक है और ऐसे सभी ग्राहकों और / या निदेशकों के पास डीआईएन / पैन है, उनमें से प्रत्येक के लिए डीएससी प्राप्त करना अनिवार्य होगा

प्र : पहले निदेशकों के लिए जिनका डीआईएन / सब्सक्राइबर नहीं है, किस भूमिका के अंतर्गत डीएससी के साथ जोड़ने की आवश्‍यकता है?

उत्‍तर : पहले निदेशक, जिनके पास डीआईएन / ग्राहक नहीं हैं, लेकिन उनके पास पैन है, वे अपना पैन प्रदान करके डीएससी को 'अधिकृत प्रतिनिधि' के अंतर्गत संबद्ध करेंगे. SPICE + में पहले निदेशकों के अनुमोदन पश्‍चात डीआईएन आबंटित किए जाने के बाद, डीएससी को 'अपडेट डीएससी' सेवा का उपयोग करके डीआईएन के आधार पर अपडेट किया जा सकता है.

प्र : SPICE+ में संबद्ध फॉर्म को अपलोड करने का अनुक्रम क्‍या है?

उत्‍तर : SPICE+---->ई एमओए [यदि लागू हो] ----> ई एओए [यदि लागू हो] ----> यूआरसी-1[यदि लागू हो] ---->एजीआईएलई-प्रो [सभी मामलों में अनिवार्य] ---->आईएनसी -9 [यदि लागू हो]

प्र : क्‍या SPICE+ के साथ पैन और टैन के लिए आवदेन करना अनिवार्य है (आईएनसी - 32) ?

उत्‍तर : जी हां

प्र : पैन और टैन के लिए देय शुल्क क्या है ?

उत्‍तर : पैन के लिए – रु. 66 और टैन के लिए – रु. 65 देय होगा.

प्र : SPICE+ के अनुमोदन पर उपयोगकर्ता को पैन और टैन कैसे सूचित किया जाता है ?

उत्‍तर : SPICE+ फॉर्म के अनुमोदन पर आयकर विभाग द्वारा आबंटित निगमन प्रमाणपत्र (सीओआई) पैन के साथ जारी किया जाता है. पैन और टैन के साथ संलग्नक के रूप में निगमन प्रमाणपत्र (सीओआई) सहित एक इलेक्ट्रॉनिक मेल भी उपयोगकर्ता को भेजा जाता है. इसके अतिरिक्‍त पैन कार्ड आयकर विभाग द्वारा जारी किया जाएगा.

प्र : क्‍या पैन और टैन के लिए शुल्‍क अलग से देय है ?

उत्‍तर : जी नहीं. SPICE+ (आईएनसी - 32) में दर्ज करते समय एक समेकित चालान जनरेट होता है, जिसमें निम्‍नलिखित लागू शुल्क शामिल होता है (i) फॉर्म शुल्‍क
(ii) एमओए
(iii) एओए
(iv) पैन
(v) टैन

प्र : यदि उपयोगकर्ता को पैन कार्ड प्राप्त नहीं होता है, तो कृपया इसके लिए जिम्‍मेवार अधिकारियों का संपर्क विवरण प्रदान करें?

उत्‍तर : निगमन प्रमाणपत्र प्राप्‍त करने के बाद (जिस पर आयकर विभाग द्वारा आबंटित पैन लिखा गया हो) पैन कार्ड न मिलने के मामले में, हितधारक www.TIN-NSDL.com पर स्थिति की जांच का सकते हैं.

प्र : क्‍या पैन और टैन के लिए अलग अलग एओ कोड है? इन एओ कोड को कहां से प्राप्‍त किया जा सकता है?

उत्‍तर : पैन और टैन के लिए एओ कोड अलग अलग है और यह निम्‍नलिखित लिंक्‍स पर प्राप्‍त किए जा सकते हैं. कृपया एओ कोड में आगे या पीछे शून्‍य ना लगाएं.
पैन के लिए एओ कोड
https://www.tin-nsdl.com/services/pan/pan-aocode.html
टैन के लिए एओ कोड
https://www.tin-nsdl.com/services/tan/tan-ao-code.html
अर्थात :
पैन के लिए एओ कोड हेतु दिल्‍ली में दिलशाद गार्डन में डीईएल डब्‍ल्‍यू 64 1 जबकि टैन के लिए एओ कोड डीईएल डब्‍ल्‍यू 391 1

प्र : शिकायत निवारण कैसे किया जाता है?

उत्‍तर : तकनीकी समस्‍याओं अर्थात फॉर्म अपलोड, संवीक्षा पूर्व एरर, डीएससी संबंधित, भुगतान संबंधी शिकायतों के मामले में कृपया www.mca.gov.in/myservices पर टि‍कट रेज करें और समाधान की प्रतीक्षा करें. इस टिकट के समाधान न मिलने पर आप 48 घंटे के बाद 0124-4832500 पर कॉर्पोरेट सेवा केंद्र में कॉल भी कर सकते हैं. पुनः प्रस्‍तुतिकरण / अस्वीकृति टिप्पणियों के मामले में, कृपया 0124-4832500 पर संपर्क करें और सीआरसी के लिए विकल्प 1 का चयन करें. एस्‍कलेशन के लिए आप crc.escalation@mca.gov.in पर मेल भी भेज सकते हैं.

प्र : यदि निदेशक पहचान संख्या (डीआईएन) के आबंटन के लिए एक आवेदक की पहचान SPICE+ में संभावित डुप्लिकेट के रूप में की गई है तो क्या होगा?

उत्‍तर : यदि SPICE+ फॉर्म में किसी डीआईएन आवेदक दर्ज किए गए विवरण को संभावित डुप्लिकेट मेसेज के रूप में पहचाना गया है, 'हां' और 'नहीं' विकल्पों के साथ निम्नलिखित संदेश प्रदर्शित किए जाएंगे- "सिस्टम ने संभावित डुप्लिकेट के रूप में आवेदक (ओं) की पहचान की है क्योंकि सामग्री पहले से दर्ज डीआईएन आवेदन पत्र के साथ मेल खा रही है. कृपया यह सुनिश्चित करें कि आवेदक को पहले से कोई डीआईएन आबंटित नहीं किया गया है. यदि आप फिर भी जारी रखना चाहते हैं तो ‘हां’ कहें. कृपया नोट करें कि एमसीए द्वारा उचित सत्यापन के बाद ही डीआईएन आवेदन को मंजूरी दी जाएगी. “.यदि उपयोगकर्ता ‘नहीं’ विकल्‍प का चयन करता है, तो ई-फॉर्म भरने की अनुमति नहीं दी जाएगी.

प्र : फॉर्म पुनः प्रस्‍तुत करते समय ‘फॉर्म पूर्व-संवीक्षित नहीं है’ का उल्‍लेख करते हुए हुए एरर प्रदर्शित होना.

उत्‍तर : फॉर्मों के सफल पुनः प्रस्‍तुतिकरण के लिए, कृपया सुनिश्चित करें कि SPICE+ से संबंद्ध सभी फॉर्मों को सबमिट बटन पर क्लिक करके रिजनरेट किया गया है और ऐसे वेब – फॉर्म में भले ही कोई संशोधन न हो फिर भी नई पीडीएफ डाउनलोड की गई है. सिस्टम पुराने पीडीएफ प्रस्‍तुत करने की अनुमति नहीं देगा जिसे पूर्व के फाइलिंग में डाउनलोड और सबमिट किया गया था.

प्र : वेब फॉर्म में सभी विवरण दर्ज करने के बाद भी ई-एमओए में ग्राहक शीट के न रहने पर डीएससी के संयोजन की जगह नहीं प्राप्त होने पर.

उत्‍तर : पीडीएफ डाउनलोड / खोलने के लिए कृपया ‘एक्रोबेट रीडर डीसी’ इंस्‍टॉल करें.

अंतिम देखा गया पेज

X
Back to Top